अयूर-नाड़ी वैद्य

अयूर-नाड़ी वैद्य

नाड़ी निदान के समय अपनी मूल प्रकृति और विकृति (विचलन) को जानें।
त्रि-दोष के असंतुलन से उत्पन्न होने वाले रोगों को आयुर्वेदिक आहार, यज्ञ चिकित्सा, मंत्र चिकित्सा और योग चिकित्सा द्वारा दूर करें।
Naadi course online

पल्स डायग्नोसिस आपको अपनी  मूल प्रकृति व विकृति को जानने में मदद करता है, त्रि-गुण और त्रि-दोष की असंतुलित अवस्था की वजह से  होने वाले रोग पर काबू पाने में आयुर्वेदिक  डाइट चार्ट, यज्ञ थेरेपी , मंत्र  चिकित्सा , योग चिकित्सा और अन्य उपयुक्त विधियों का  उपयोग  आपकी सहायता करते हैं।

नाड़ी विशेषज्ञ या नाड़ी चिकित्सक के पास आयुर्वेदिक शरीर क्रिया विज्ञान का एक ठोस आधार होता है।  एक नाड़ी विशेषज्ञ , बायीं या दायीं कलाई पर नाड़ी को महसूस करके, सटीक रूप से निदान कर सकता है कि शरीर के किस अंग में रोग है और किस दोष के कारण यह असंतुलन हो रहा है। आयुर्वेद के अनुसार,  पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली में  पल्स डायग्नोसिस एमआरआई के बराबर है।

Nadi course

अयूर वैद्य आहार विशेषज्ञ आपकी प्रकृति को शारीरिक विशेषताओं और नाड़ी निदान से डिकोड करता है। आपकी प्रकृति और विकृति (विचलन) को डिटेल्स में समझने के बाद, आहार विशेषज्ञ आपको संतुलित अवस्था में आने के लिए,  आयुर्वेद आहार के हिसाब से चार्ट सुझाते हैं। 2-4 सप्ताह के लिए डाइट चार्ट का पालन करने से आप स्वस्थ, शांत, अधिक ऊर्जावान और अपने तत्व में खुद को महसूस करते हैं।

आयुर्वेद में आहार को आपकी प्रकृति (वात, पित्त, कफ) के हिसाब से  ऋतु आहार (मौसम के अनुसार भोजन) के रूप में बताया गया है। अधिकतर, भोजन की आदतें 3 दोषों की स्वाभाविक रूप से संतुलित अवस्था को बिगाड़ देती हैं। आयुर्वेद के अनुसार, आपकी अपनी प्रकृति से कोई भी विचलन बीमारी का कारण बनता है। कॉम्पज़िशन को रीइंस्टेट करने  से रोग दूर होते हैं और फिर से व्यक्ति स्वस्थ महसूस करता है।

स्पर्श के द्वारा प्रकृति और विकृति (असंतुलन / रोग अवस्था) में दोषों की स्थिति का मूल्यांकन करने के लिए आयुर्वेद में नाड़ी निदान सबसे महत्वपूर्ण उपकरण है। लेकिन सिर्फ़  दिन के अलग-अलग समय पर ही रोज़ाना अपनी और दूसरों की नब्ज़ देखकर कोई भी इन चिकित्सकीय ​​विधियों में महारत हासिल कर सकता है।

नाड़ी की गतिविधियां, दिन के टाइम , हर मिनट में मन और पाचन की स्थिति के हिसाब से  बदलती रहती है। नाड़ी भी उम्र, लिंग, शारीरिक संरचना , मौसम आदि के अनुसार एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग होती है। पित्त प्रकृति के बच्चों में पित्त लक्षणों की विशिष्ट नाड़ी होगी, पित्त की विशेषता वालों  में  केवल दोपहर, शरद ऋतु में या जब वे गुस्सा होते हैं तो नाड़ी की जांच की जाती है। नाड़ी की प्रकृति उस विशेष कारक के प्रमुख दोष के अनुसार अलग-अलग होगी जब वह बदलती है। आयुर्वेद साहित्य ने नाड़ी की गति की तुलना विभिन्न पक्षियों और जानवरों की गति और ध्वनि से की है। वात, पित्त और कफ के अनुसार नाड़ी परीक्षण विभिन्न रोगों के निदान के लिए महत्वपूर्ण संकेत देता है इसलिए अयूर-वैद्य डायटीशियन नाड़ी निदान की आयुर्वेदिक सिस्टम की कला और उसके महत्व को अच्छे से  जानते हैं।

Naadi diagnosis course
नाड़ी डायग्नोसिस कोर्स

नाड़ी निदान के समय अपनी मूल प्रकृति के साथ विकृति (विचलन) को जानें।

Ayurvedic diet
आयुर्वेद आहार (ऋतुाचार्य)

अपने शारीरिक और भावनात्मक गठन को समझते हुए अपने दोष के अनुसार खाना पकाएँ।

ज्ञान संसाधन